Monday, January 8, 2018

नैतिकता बनाम समलेंगिकता | Ethics versus homogeneity

समाज में नैतिकता बनाम समलेंगिकता की बहस बहुत पुरानी है, लेकिन नौ साल पहले दिल्ली हाईकोर्ट ने जब स्थापित सामाजिक मान्यताओं से हटकर अपने महत्वपूर्ण फैसले में वयस्कों के बीच सहमति से बनाए जाने वाले समलैंगिक संबंधों को वैध घोषित किया तो इस फैसले को समलैंगिक समुदाय अपने अधिकारों की लड़ाई में मील का पत्थर मानने लगे। हलाकि दिसम्बर 2013 में इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट ने पलट दिया था।

homosexuality vs ethics



क्या है समलैंगिकता

समान लिंग के प्रति आकर्षण रखने वाले पुरुष व महिला को समलैंगिक माना जाता है।

क्या है धारा 377 

18 साल से अधिक उम्र का कोई स्वेछा से पुरुष, महिला या पशु से अप्राक्रतिक योन सम्बन्ध स्थापित   करे तो उसे आजीवन कारावास या दस साल तक के कारावास और जुर्माने का प्रावधान।  1935 में पहली बार इसमें संशोधन करके इसका दायरा बढ़ाया गया।
समलेंगिकता के खिलाफ ये कानून 155 साल पुराना है, 1861 में अंग्रेजो ने लागू की थी धारा 377

पहला मामला 

अविभाजित भारत में 1925 में खानू बनाम सम्राट पहला मामला था। उस मामले में यह फैसला दिया गया की योन संभंधों का उदेशय संतानोत्पत्ति है लेकिन अप्राक्रतिक योन में यह संभव नहीं है।

25 लाख देश में कुल समलैंगिक आबादी 


संघर्ष दर संघर्ष


  • 2001 : नाज़ फाउंडेशन ने जनहित याचिका दायर कर इसे वैधता देने की दिल्ली हाई कोर्ट से मांग की थी
  • जुलाई 2, 2009 : अदालत ने धरा 377 को असवैधानिक  करार दिया। 
  • दिसंबर 11, 2013 : सुप्रीम कोर्ट ने हाई कोर्ट के फैसले को पलटा। 
  • जनवरी  2014 : सुप्रीम कोर्ट ने पुनर्विचार याचिका ठुकराई। 
  • फरवरी 2016 : 2013 के अपने फैसले पर सुप्रीम कोर्ट पुनर्विचार करने पर सहमत।  याचिका को पांच सदस्यीय पीठ को भेजने की बात कही। 


मुखर होता आंदोलन 


  • 2005 में गुजरात के राजपरिवार के राजकुमार मानवेंदऱ सिंह ने पहला शाही 'गे' होने की घोषणा की थी। 
  • समय समय पर बॉलीवुड ने 'माय बरोदर निखिल', 'हनिमूनस ट्रेवल प्रा. लिमिटेड', 'दोस्ताना' जैसी फिल्मे इस विषय पर बनाई। 
  • 2006 में जोल्टन पराग ने मि गे इंटरनेशनल प्रतियोगिता में हिस्सा लिया। 
  • 16 अप्रैल 2009, में गे पत्रिका 'बॉम्बे दोस्त' को दोबारा शुरू किया गया। 


तकनीक का साथ

इंटरनेट पर गे डेटिंग वेबसाइटो की भरमार, गे कम्युनिटी और इन पर ब्लोग्स से भरी पड़ी है साइटे

कहां कहां है लागू 

डेनमार्क, नॉर्वे, स्वीडेन, बेल्जियम, कनाडा,नेदरलैंड, स्पेन, दक्षिण अफ्रीका और अमेरिका के  राज्य।

कृपया समलैंगिकता के विषय में आपकी क्या राय है हमे कमैंट्स में अवशय बताये

0 comments:

Post a Comment